Home Insights राष्ट्रीय लॉकडाउन में लड़खड़ाती आजीविका

राष्ट्रीय लॉकडाउन में लड़खड़ाती आजीविका

5
0

बलवंत सिंह मेहता और अर्जुन कुमार

लॉकडाउन होने के बाद के हफ्तों में देश में केवल 285 मिलियन लोग काम कर रहे थे जबकि 404 मिलियन लोग महामारी फैलने से पहले कार्यरत थे।

विश्व स्तर पर कोरोनवायरस के फैलने से 25 मिलियन से अधिक नौकरियों को खतरा होगा

अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) का अनुमान है कि 3.3 बिलियन के वैश्विक कार्यबल में पांच में से चार लोग (81 प्रतिशत) वर्तमान में पूर्ण या आंशिक कार्यस्थल बंद होने से प्रभावित हैं। अमेरिका, ब्रिटेन, कनाडा और अधिकांश यूरोपीय और एशियाई देशों ने बड़े पैमाने पर नौकरियों का नुकसान दर्ज करना शुरू कर दिया है।

जिससे उनकी बेरोजगारी दर में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। ILO ने अपनी रिपोर्ट COVID-19 और कार्य की दुनिया के विश्लेषण में कोविड 19 को “द्वितीय विश्व युद्ध के बाद का सबसे खराब वैश्विक संकट” बताया है।

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) की प्रमुख क्रिस्टालिना जॉर्जीवा का कहना है ,”1930 के “महामंदी” के बाद आज दुनिया सबसे खराब आर्थिक संकट से जूझ रही है।”

 अनौपचारिक कामगारों का एक बड़ा हिस्सा इस आपदा में प्रभावित हो रहा है

दुनिया के अधिकांश अनौपचारिक कामकर्ता जो वैश्विक कार्यबल या 61 बिलियन लोगों का हिस्सा विकासशील देशों से हैं और वे इस परिदृश्य में सबसे अधिक प्रभावित होंगे। निम्न और मध्यम आय वाले देशों में कम वेतन वाले और कम कुशल अनौपचारिक श्रमिकों के लिए गंभीर चिंताएं हैं, जहां उद्योगों और सेवाओं में ऐसे श्रमिकों का उच्च अनुपात है क्योंकि उनके पास किसी भी सामाजिक सुरक्षा जाल का अभाव है।

ILO की रिपोर्ट के अनुसार खाद्य, खुदरा, थोक, व्यावसायिक सेवाओं, निर्माण और विनिर्माण जैसे क्षेत्रों में रोजगार के घंटे एवं श्रमिकों के संख्या में गिरावट और उत्पादन का नुकसान हुआ है।

इन क्षेत्रों में कार्यरत 1.25 बिलियन श्रमिकों को मिलाकर वैश्विक श्रमिकों का एक-तिहाई (37.5 प्रतिशत) से अधिक आज जोखिम में है।

भारतीय अर्थव्यवस्था अभूतपूर्व मंदी की ओर अग्रसर है

भारतीय अर्थव्यवस्था विशेष रूप से अनौपचारिक या असंगठित क्षेत्र, हाल के महीनों में एक अभूतपूर्व मंदी का सामना कर रहा है। इस परिदृश्य को सरकार द्वारा कोरोनावायरस के प्रसार को रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन द्वारा बढ़ गया है।

देश में रोज़गार परिदृश्य पर इस तरह के प्रभाव का असर पड़ा है, जहां सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (सीएमआईई) की एक रिपोर्ट कहती है कि लॉकडाउन के बाद के हफ्तों में केवल 28 प्रतिशत या 285 मिलियन लोग बाहर काम कर रहे थे। 1,003 मिलियन की कुल कार्य-आयु जनसंख्या जो महामारी से पहले 40 प्रतिशत या 404 मिलियन श्रमिकों के संगत आंकड़े से कम थी।

लॉक डाउन का श्रमिकों पर प्रभाव

ऊपर दिए गए आंकड़े यह इंगित करते है कि लॉकडाउन के पहले दो हफ्तों में देश में लगभग 119 मिलियन श्रमिकों ने अपनी नौकरी खो दी। सीएमआईई की रिपोर्ट मार्च में बेरोजगारी दर में उल्लेखनीय वृद्धि का संकेत देती है जो कि 8.7 प्रतिशत है जो कि 2017-18 में सरकार के बेरोजगारी अनुमान 6.1 प्रतिशत से अधिक है।

निश्चित रूप से ये संख्यायें बताती हैं कि वर्तमान राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन देश के इतिहास में अब तक का सबसे बड़ा नौकरी-विध्वंसक है।

हालांकि ये अनुमान केवल लॉकडाउन अवधि के दौरान रोजगार पर प्रभाव को प्रकट करते हैं और इसे आजीविका का स्थायी नुकसान नहीं माना जाना चाहिए। लॉकडाउन समाप्त होने के बाद उनमें से कई वापस आ सकते हैं और आर्थिक गतिविधि फिर से शुरू होती है।

ग्रामीण क्षेत्रों के अनौपचारिक श्रमिकों पर लॉक डाउन का क्या प्रभाव पड़ेगा?

पेरिऑडिक लेबर फोर्स सर्वे (PLFS), 2017-18 के अनुसार देश के कुल 465 मिलियन श्रमिकों में से लगभग 90 प्रतिशत या 419 मिलियन लोग अनौपचारिक क्षेत्र से जुड़े हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में अनौपचारिक श्रमिकों की संख्या 95 प्रतिशत है जो शहरी क्षेत्रों में 80 प्रतिशत है।

यह मुख्य रूप से है क्योंकि 62 प्रतिशत अनौपचारिक श्रमिक ग्रामीण क्षेत्रों में कृषि गतिविधियों में लगे हुए हैं जबकि शहरी क्षेत्रों में यह आठ प्रतिशत है।

इससे उनकी आजीविका पर कम प्रभाव पड़ेगा क्योंकि उन 92 प्रतिशत अनौपचारिक श्रमिकों के खिलाफ है जो गैर-कृषि क्षेत्रों में शहरी क्षेत्रों में लगे हुए हैं। यह अनुमानित 419 मिलियन अनौपचारिक श्रमिक हैं जो अपनी आजीविका खोने और गहरी गरीबी में जाने के जोखिम में हैं।

शहरी क्षेत्र के अनौपचारिक श्रमिकों पर प्रभाव

पीएलएफएस 2017-18 के यूनिट रिकॉर्ड डेटा से विश्लेषण से पता चलता है कि शहरी क्षेत्रों में लगभग 93 मिलियन अनौपचारिक श्रमिक पांच क्षेत्रों में शामिल हैं जो सबसे अधिक प्रभावित हैं अर्थात विनिर्माण (28 मिलियन); व्यापार, होटल और रेस्तरां (32 मिलियन); निर्माण (15 मिलियन); परिवहन, भंडारण और संचार (11 मिलियन); और वित्त, व्यापार और अचल संपत्ति (सात मिलियन)।

इन अनौपचारिक श्रमिकों में से 50 प्रतिशत कर्मचारी स्व-रोजगार में लगे हुए हैं, 20 प्रतिशत आकस्मिक श्रमिक या दैनिक वेतनभोगी हैं और 30 प्रतिशत वेतनभोगी या संविदा कर्मचारी हैं जो बिना किसी सामाजिक सुरक्षा के हैं।

लॉक डाउन के दौरान आर्थिक गतिविधियों पर प्रतिबंध

लॉकडाउन के कारण कार्यस्थलों पर शारीरिक श्रम से संबंधित सभी आर्थिक गतिविधियों (आवश्यक और आपातकालीन सेवाओं के अपवाद के साथ) पर प्रतिबंध लगा दिया जाता है। इसलिए इन पांच क्षेत्रों में लगभग 93 मिलियन शहरी अनौपचारिक कार्यकर्ता सबसे अधिक प्रभावित हुए हैं।

यह केवल कृषि और संबद्ध गतिविधियों के लिए सबसे बड़ा अनौपचारिक क्षेत्र कार्यकर्ता समूह है और यूके, ऑस्ट्रेलिया, जापान और इतने पर दुनिया के अधिकांश देशों की तुलना में आबादी के आकार का गठन करता है।

लॉक डाउन के उपरांत हालात अनौपचारिक श्रमिकों के लिए चिंतनीय होंगे

अनौपचारिक श्रमिकों के अलावा संगठित क्षेत्र (अपंजीकृत फर्मों) में कई लोग शामिल हैं जो वर्तमान में बेरोजगार नहीं हो सकते हैं। लेकिन लॉकडाउन अवधि समाप्त होने के बाद खुद को बिना नौकरी के पा सकते हैं यदि उद्यम उन्हें वापस लेने से इनकार करते हैं।

कई स्व-नियोजित लोग जैसे स्ट्रीट वेंडर और अन्य छोटे उद्यमी अपने व्यवसायों को फिर से शुरू करने के लिए पूंजी के अभाव में रहेंगे और कई अपने मूल स्थानों से वापस नहीं लौट सकते हैं।

मुश्किल है कि लॉक डाउन उपरांत संविदा या नियमित वेतन भोगी श्रमिक अपनी नौकरी वापस पा लें

इनमें से आकस्मिक श्रमिक अपने काम की अप्रत्याशित प्रकृति और दैनिक-मजदूरी भुगतानों के कारण सबसे ज्यादा कमजोर हैं, जो निर्माण क्षेत्र में सबसे अधिक हैं।

इसलिए ये सभी नियमित वेतनभोगी या संविदा कर्मचारी जो वर्तमान में काम नहीं कर रहे हैं और कुशल कर्मचारी और छोटे दुकानदार, जो घर पर बेकार बैठे हैं या अपने मूल स्थानों पर लौट आए हैं या फिर आश्रय घरों में रह रहे हैं, लॉकडाउन अवधि समाप्त होने के बाद उनकी नौकरियां वापस नहीं आ पायेंगी।

भविष्य में वेतन व भत्तों में क्या बदलाव होंगे,यह देखने लायक होगा

नौकरी के इस अंधकारमय परिदृश्य में एकमात्र सुंदर तथ्य यह है कि महामारी ने अर्थव्यवस्था में और अत्यधिक कुशल पेशेवरों और प्रौद्योगिकी इंटरफ़ेस क्षेत्रों के लिए उछाल पैदा किया है(जैसे ऑनलाइन डिलीवरी सेवाओं)। हालांकि देश में नौकरियों में समग्र नुकसान की भरपाई के लिए कार्यबल में उनका योगदान बहुत कम होने का अनुमान है।

लॉकडाउन के अंत में यह अनुमान लगाया गया है कि आवश्यक सेवाओं और व्यवसायों में नियमित वेतनभोगी नौकरी करने वालों में से दसवें से भी कम लोग अपनी नियमित आय प्राप्त करते रहेंगे। साथ ही भविष्य में वेतन या भत्तों में और भी बदलाव होंगे।

सरकारी कर्मचारियों के वेतन में भी संशोधन देखने को मिल सकते हैं

आगे चलकर कई सरकारी कर्मचारियों के वेतन को नीचे की ओर संशोधित किया जा सकता है और निजी क्षेत्र में गैर-राजस्व सृजन के कारण समायोजन किया जाएगा। हालांकि आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति, बीमा, ऑटोमोबाइल और स्वास्थ्य सेवा जैसे कुछ क्षेत्रों में वास्तव में मांग और राजस्व में वृद्धि देखी जाएगी, जिसके परिणामस्वरूप पारिश्रमिक में बढ़ोतरी हुई है।

इसलिए सरकार के पास आज अनौपचारिक श्रमिकों को तत्काल सहायता प्रदान करने की दोहरी चुनौती है, जिन्होंने अपनी नौकरी खो दी है और जो लोग पहले से ही बेरोजगार हैं और नौकरी की तलाश कर रहे हैं।

प्रवासी परिवारों पर धयन दिए जाने की बेहद आवश्यकता है

अनौपचारिक श्रमिकों की सहायता करने के अलावा जो प्रवासी हैं उनके परिवारों पर विचार करने की आवश्यकता है, क्योंकि वे प्रधान मंत्री गरीब कल्याण योजना 2.0 की प्रतीक्षा कर रहे हैं।

हालांकि बड़ी कमी यह है कि अनौपचारिक नौकरियों या क्षेत्रों में शामिल लोगों के लिए कोई उचित राष्ट्रीय स्तर की रजिस्ट्री नहीं है जैसे कि सब्जी विक्रेता, निर्माण श्रमिक, रिक्शा चालक, ऑटो-रिक्शा चालक, अस्थायी कर्मचारी, प्रत्यक्ष डिजिटल (सार्वभौमिक बुनियादी आय), स्वास्थ्य (सार्वभौमिक कवरेज) और अन्य आवश्यक आकस्मिक सुरक्षा और सुरक्षा सहायता प्रदान करने के लिए एक गतिशील बेरोजगारी रजिस्ट्री के साथ नवीनतम डिजिटल तकनीकों और नवाचारों का उपयोग करके इन रजिस्ट्रियों को स्थापित और अद्यतन करने की तत्काल आवश्यकता है।

केंद्र को संकट के इस समय में प्रत्येक सार्वजनिक और निजी उद्यम को विलंबित भुगतान के भुगतान को तेजी से ट्रैक करना होगा। इसके अलावा सबसे कमजोर लोगों के उपयोगिता बिलों को भी इसके लिए भुगतान करना होगा।

अपने नए सपनों का भारत बनाने के लिए एक नई दिशा की जरूरत है

इसके अलावा यह सुनिश्चित करने के लिए कि प्रत्येक वार्ड (4,378 शहरों में 84,420) और प्रत्येक ग्राम पंचायत (6,975 ब्लॉकों और 2,6,7 जिलों में 2,62,734) पूरी तरह से आबादी की सेवा करने के लिए सुसज्जित हैं, उनमें से प्रत्येक को मौजूदा योजनाओं की तरह आपातकालीन निधि से प्रदान किया जाना चाहिए।

स्वच्छ भारत मिशन और जल जीवन मिशन। सरकार को अपने अशांत निजी क्षेत्र, गैर-लाभकारी, नागरिकों और विश्वास संस्थानों के साथ इन अशांत समयों के माध्यम से जुड़ने के लिए तैयार होना चाहिए। समग्र रूप, में मौजूदा राहत और मौद्रिक सहायता में जनता को सरकार की देखभाल से छोड़ दिया गया है जो इसका प्राथमिक कर्तव्य है।

इस कमी को जल्द से जल्द और व्यापक बनाया जाना चाहिए, 21 वीं सदी के लिए पैन-सेक्टोरल सुधारों को हमारे सपनों का नया भारत बनाने के लिए किया जाना चाहिए।

Picture Courtesy: Arnav Pratap Singh | Dreamstime.com
Previous articleदिल्ली से प्रवासी श्रमिको का पलायन और संकट की स्थिति में डेटा की कमी
Next articleMyriad Misery of Migrant Workers: COVID-19 and Lockdown
IMPRI, a startup research think tank, is a platform for pro-active, independent, non-partisan and policy-based research. It contributes to debates and deliberations for action-based solutions to a host of strategic issues. IMPRI is committed to democracy, mobilization and community building.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here