Home Authors Posts by IMPRI

IMPRI

1453 POSTS 0 COMMENTS
IMPRI, a startup research think tank, is a platform for pro-active, independent, non-partisan and policy-based research. It contributes to debates and deliberations for action-based solutions to a host of strategic issues. IMPRI is committed to democracy, mobilization and community building.

Checkmate! China’s Coronavirus Connection

0
Simi Mehta Coronavirus outbreaks in China and later across the globe have been unprecedented in both their scale and impacts. In the era...

कोविड 19 के वक्त में गिग श्रमिको के योगदान और कल्याण...

0
बलवंत सिंह मेहता,अर्जुन कुमार स्वतंत्र गिग अर्थव्यवस्था आज की आधुनिक दुनिया में रोज़गार का एक प्रमुख चालक है। फिर भी इसके कर्मचारी असुरक्षा और अस्थिरता...

করোনা সংকটে কেমন রয়েছেন প্রবীণ ও প্রতিবন্ধী নাগরিকরা

0
সৌম্যদীপ চট্টোপাধ্যায়, সিমি মেহতা, অর্জুন কুমার প্রধানমন্ত্রী নরেন্দ্র মোদী করোনার মোকাবিলায় গত ১৪ই এপ্রিল জাতির উদ্দ্যেশে ভাষণে সাতটি পদক্ষেপের অঙ্গ হিসাবে প্রবীণ নাগরিকদের যত্ন নেওয়ার উপর বিশেষ গুরুত্ব দেন। ওয়ার্ল্ড...

कोविड 19 लॉकडाउन प्रभाव: भारत की अनौपचारिक अर्थव्यवस्था में नौकरीयों का...

0
बलवंत सिंह मेहता और अर्जुन कुमार भारत के अनौपचारिक क्षेत्र के श्रमिकों को एक अनिश्चित भविष्य का सामना करना पड़ रहा है और जिसमें अब तक के सबसे खराब आर्थिक संकटों में से एक में हो रहे नौकरियों का नुकसान बड़ा है। अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) ने अनुमान लगाया कि विश्व स्तर पर 25 मिलियन से अधिक नौकरियों को कोरोनावायरस के...

Gig Workers Are Contributing Big In The Times Of Covid-19; Their...

0
Balwant Singh Mehta, Arjun Kumar Background Rapid technological advancement around the world has ushered in the era of ‘the future of work’ also...

Myriad Misery of Migrant Workers: COVID-19 and Lockdown

0
I. C. Awasthi, Balwant Singh Mehta, Mashkoor Ahmad and Arjun Kumar Prelude With close to 100,000 COVID-19 cases, India has entered its...

राष्ट्रीय लॉकडाउन में लड़खड़ाती आजीविका

0
बलवंत सिंह मेहता और अर्जुन कुमार लॉकडाउन होने के बाद के हफ्तों में देश में केवल 285 मिलियन लोग काम कर रहे थे जबकि 404 मिलियन लोग महामारी फैलने से पहले कार्यरत थे। विश्व स्तर पर कोरोनवायरस के फैलने से 25 मिलियन से अधिक नौकरियों को खतरा होगा अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) का अनुमान है कि 3.3 बिलियन के वैश्विक कार्यबल में पांच में से चार लोग...

दिल्ली से प्रवासी श्रमिको का पलायन और संकट की स्थिति में...

0
पूजा कुमारी कोविड -19 महामारी के कारण राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन की घोषणा के बाद दिल्ली से प्रवासी मजदूरों के बड़े पैमाने पर पलायन ने देश के...

Exodus of migrant workers from Delhi – where is the data...

0
P C Mohanan and Arjun Kumar Large scale exodus of migrant labourers from Delhi following the announcement of the nationwide lockdown due to the COVID-19...

#COVID-19: विकलांग और बुजुर्गों पर लॉकडाउन के विपरीत प्रभा

0
लेखक: डॉ अर्जुन कुमार, प्रो. मनीष प्रियदर्शी, डॉ सिमी मेहता, प्रो. बलवंत सिंह मेहता, प्रो. आईसी अवस्थी, प्रो. सौम्यदीप चट्टोपाध्याय, प्रो. शिप्रा मैत्रा, डॉ. इंदु प्रकाश सिंह, राज कुमार, रितिका गुप्ता, अंशुला मेहता, डॉ कहकशां कमाल, बैकुंठ रॉय, डॉ डॉली पाल, पूजा कुमारी पृष्ठभूमि कोरोनोवायरस रोग (COVID-19) दुनिया भर में एक महामारी के रूप में फैल रहा है, जो दुनिया को आघात पहुंचा रहा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन...

Editors' Picks